खूबसूरती की तारीफ शायरी

खूबसूरती की तारीफ शायरी २ लाइन || khubsurti ki tareef shayari 2 line

तू जरा सी कम खूबसूरत होती तो भी बहुत खूबसूरत होती सफाईयां देनी छोड़ दी है मैं बहुत बुरी हूं सीधी सी बात है बहक ना जाए कहीं लौ की नियत होठों से दीया तू बुझाया ना कर लड़ने दो जुल्फों और हवाओं को आपस में तुम क्यों हाथ से उन में सुलह कराने लगती …

खूबसूरती की तारीफ शायरी २ लाइन || khubsurti ki tareef shayari 2 line Read More »